Whatsapp +91 701-157-0196 info@kavitasansar.com

रचनाकारों की सूची

गोपालदास “नीरज”

अब तुम्हारा प्यार भी

अब तुम्हारा प्यार भी मुझको नहीं स्वीकार प्रेयसि ! चाहता था जब हृदय बनना तुम्हारा ही पुजारी, छीनकर सर्वस्व मेरा तब कहा तुमने भिखारी, आँसुओं से रात दिन मैंने चरण धोये तुम्हार...
Posted On 03 May 2013
, By

गौरीशंकर आचार्य ‘अरुण’

अँधेरों से कब तक नहाते रहेंगे

अँधेरों से कब तक नहाते रहेंगे । हमें ख़्वाब कब तक ये आते रहेंगे । हमें पूछना सिर्फ़ इतना है कब तक, वो सहरा में दरिया बहाते रहेंगे । ख़ुदा न करे गिर पड़े कोई, कब तक, वे गढ्ढ...
Posted On 03 Jun 2013
, By

प्रभा दीक्षित

गोपालदास “नीरज”

कविता संसार — हिन्दी – उर्दू कविताओं का एक छोटा सा संग्रह। अब तुम्हारा प्यार भी अब तुम्हारा प्यार भी मुझको नहीं स्वीकार प्रेयसि ! चाहता था जब हृदय ...
Posted On 03 Jun 2013
, By

गौरीशंकर आचार्य ‘अरुण’

कविता संसार — हिन्दी – उर्दू कविताओं का एक छोटा सा संग्रह। अँधेरों से कब तक नहाते रहेंगे अँधेरों से कब तक नहाते रहेंगे । हमें ख़्वाब कब तक ये आते रहें...
Posted On 03 Jun 2013
, By

Post Carousel