Whatsapp +91 701-157-0196 info@kavitasansar.com

कुछ मुक्तक-अनामिका ‘अम्बर’ जैन

  • मेरा मन तू बने, तेरा मन मैं बनूँ,
    ऐसे पूजूँ तुझे ख़ुद नमन मैं बनूँ |
    एक ही प्रार्थना है प्रभु से मेरी,
    हर जनम में तेरी ही दुल्हन मैं बनूँ ||

    चाँद बिन चांदनी रात होती नहीं,
    ना हो बादल तो बरसात होती नहीं |
    शब्द मजबूर हैं व्यक्त क्या क्या करें,
    प्रेम जब हो मुखर बात होती नहीं ||

    शाम भी ख़ास है वक़्त भी ख़ास है,
    मुझको अहसास है तुझको अहसास है |
    इससे ज्यादा मुझे और क्या चाहिए,
    मैं तेरे पास हूँ तू मेरे पास है ||

    मैं तुझे जान लूं तू मुझे जान ले,
    मैं भी पहचान लूं तू भी पहचान ले |
    है बहुत ही सरल प्रेम का व्याकरण,
    मैं तेरी मान लूं तू मेरी मान ले ||

    चंदा की चकोरी से कोई बात ना होती,
    जो तुमसे हमारी ये मुलाकात न होती |
    इस शहर के लोलोगों में कोई बात है ‘अम्बर’,
    वरना तो कभी इतनी हसीं रात ना होती ||

  • mera man tu bane tera man main banu,
    aise poojun tumhe khud naman main banu.
    ek hi prarthna hai prabhu se meri,
    har janam mein teri hi dulhan main banu..

    Chand bin chandni raat hoti nahi,
    Na ho baadal to barsat hoti nahi.
    Sabd mazboor hain wyakt kya – kya karein,
    Prem jab ho mukhar baat hoti nahi.

    Shaam bhi khaas hai, waqt bhi khaas hai.
    Mujhko ehsaas hai, tujhko easaas hai.
    Isse jyada mujhe aur kya chahiye,
    main tere paas hoon tu mere paas hai.

    Main tujhe jaan loon tu mujhe jaan le,
    main bhi pehaan loon tu bhi pehchaan le.
    hai bhut hi saral prem ka vyakaran,
    main teri maan loon tu meri maan le.

    Chanda ki chakori se koi baat na hoti,
    jo tumse hamari ye mulakaat na hoti.
    Is shehar ke logon mein koi baat hai ‘Amber’
    warna to kabhi itni haseen raat na hoti.

About the Author

Related Posts

Leave a Reply

*