Whatsapp +91 701-157-0196 info@kavitasansar.com

खिजां के मारे हुओ ये बहार ले जाओ

  • खिजां के मारे हुओ ये बहार ले जाओ,

    हमारे गाँव का मौसम उधार ले जाओ |

     महक हमारे ही गुलशन की जायदाद नहीं,

    हवाओ तुम इसे हर एक द्वार ले जाओ |

    टंगी है दर पे मेरे रौशनी की कंदीलें,

    तुम्हारा काम चले तो उतार ले जाओ |

    वहां के दंगों की अफवाह यहाँ मत बेचो,

    खुदा के वास्ते ये कारोबार ले जाओ |

    शहर में हँसना भी कोई हंसी का खेल नहीं,

    यहाँ के लोगों से ये यादगार ले जाओ|

  • khijaan ke maare huo ye bahaar le jaao,

    hmaare gaanv ka mausam udhaar le jao..


    mahak hmare hi ghar ki jaaydad nahi,

    havaon tum ise har ek dwar le jaao..


    tangi hai dar pe mere roshni ki kandeelein,

    tumhara kaa kaam chale to utaar le jaao..

    wahaan ke dangon ki afwaah yahaan mat becho,

    khuda ke vaste ye karobaar le jao..

    shahar mein hansna bhi koi hansi ka khel nahi,

    yahan ke logon se ye yaadgaar le jaao..

 

About the Author

Related Posts

Leave a Reply

*