Whatsapp +91 701-157-0196 info@kavitasansar.com

आदतन तुम ने कर दिये वादे

आदतन तुम ने कर दिये वादे
आदतन हम ने ऐतबार किया
तेरी राहों में हर बार रुक कर
हम ने अपना ही इन्तज़ार किया
अब ना माँगेंगे जिन्दगी या रब
ये गुनाह हम ने एक बार किया
About the Author

Related Posts

Leave a Reply

*