Whatsapp +91 701-157-0196 info@kavitasansar.com

गौरीशंकर आचार्य ‘अरुण’

कविता संसार — हिन्दी – उर्दू कविताओं का एक छोटा सा संग्रह।

अँधेरों से कब तक नहाते रहेंगे

अँधेरों से कब तक नहाते रहेंगे ।
हमें ख़्वाब कब तक ये आते रहेंगे ।

हमें पूछना सिर्फ़ इतना है कब तक,
वो सहरा में दरिया बहाते रहेंगे ।

ख़ुदा न करे गिर पड़े कोई, कब तक,
वे गढ्ढों पे चादर बिछाते रहेंगे ।

बहुत सब्र हममें अभी भी है बाक़ी,
हमें आप क्या आजमाते रहेंगे ।

कहा पेड़ ने आशियानों से कब तक,
ये तूफ़ान हमको मिटाते रहेंगे ।

About the Author

Related Posts

  1. admin Reply

    Tortor Egestas Adipiscing

    • admin Reply

      Mollis Ridiculus Tortor

  2. admin Reply

    Cras Magna

Leave a Reply

*